Gold-Price-Today-Aaj-sone-ka-bhav-Gold-rate-Today-Sone-ka-Bhav

Aaj Sone Chandi ka Taja Bhav 22 कैरट सोना 65000 के पार, चांदी ने तोड़े रिकॉर्ड

Aaj Sone Chandi ka Taja Bhav सोने की खरीदारी करने वालो के लिए बड़ी खबर आ चुकी है 22 कैरट से लेकर 24 कैरट तक सोने की कीमतों ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है ऐसे में जान लेते है Aaj sone Chandi ka Taja Bhav क्या है

If you want to receive information about the stock market, Mainboard IPO Grey Market Premium, or SME IPO GMP, you can join our WhatsApp channel for immediate updates.

Sone ka bhav – नवरात्र के पहले दिन सर्राफा मार्केट में सोने-चांदी के भाव एक बार फिर इतिहास रच दिए हैं। सोने की कीमत बढ़कर एक नए आल टाइम हाई पर पहुंच गई है और चांदी की भी चमक बढ़ी है। 22 कैरेट सोने का भाव ही अब 65,500 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है। इस बढ़ते भाव के साथ ही, आज सोने के लिए नए रेकॉर्ड सेट किए गए हैं।

आईबीजेए (IBJA Gold Rate Source) के लेटेस्ट रेट के मुताबिक आज 23 कैरेट सोना भी 71,221 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया है, जो कि 227 रुपये ऊपर खुला। दूसरी ओर 18 कैरेट सोना भी आज 53,630 रुपये पर पहुंच गया है, जो कि 171 रुपये चढ़कर है।

सोने का इतिहास:

Gold Rate – 28 मार्च 2024 को 24 कैरेट सोने का भाव महज 67,252 रुपये था, जिस दिन यह ऑल टाइम हाई पर था। इसके बाद एक अप्रैल को सोना रिकॉर्ड 68,964 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया, और इसके बाद 3 अप्रैल को यह फिर नए शिखर 69,526 पर पहुंचा। आज नौ अप्रैल को 71,507 रुपये के नए शिखर पर पहुंचा है।

उछल के कारण:

केंद्रीय बैंकों की खरीदारी: चीनी केंद्रीय बैंक ने विदेशी परिसंपत्तियों की अपनी हिस्सेदारी में विविधता लाने के लिए लगातार 16 महीनों तक सोना खरीदा है। इसके साथ ही, आरबीआई ने जनवरी में 8,700 किलोग्राम सोना खरीदा – लगभग 18 महीनों में इसकी सबसे बड़ी मासिक खरीद है।

भू-राजनीतिक तनाव: पश्चिम एशिया में हालिया भू-राजनीतिक तनाव भी कीमती धातुओं की कीमतों में इजफे का एक कारण रहा है।

डॉलर की कमजोरी: सोने की कीमतों में बढ़ोतरी का एक अन्य कारण डॉलर के मुकाबले रुपये की हालिया कमजोरी भी है। रुपया पिछले सप्ताह 83.45 प्रति डॉलर के स्तर को छू गया है।

चांदी की चमक:

Chandi ka Bhav फरवरी में भारत का चांदी आयात 260% बढ़कर रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। यूएई से कम शुल्क से और बड़ी खरीदारी को बढ़ावा मिला है। इस साल आयात 66% बढ़ने की उम्मीद है।

सोने और चांदी की कीमतों में बढ़ोतरी के पीछे कई कारण हैं, जिनमें केंद्रीय बैंकों की खरीदारी, भू-राजनीतिक तनाव, और डॉलर की कमजोरी शामिल हैं। चांदी के आयात में भी बढ़ोतरी का महत्वपूर्ण योगदान है।

If you want to receive information about the stock market, Mainboard IPO Grey Market Premium, or SME IPO GMP, you can join our WhatsApp channel for immediate updates.