Bhai Dooj 2023 जानिए क्यों मनाते है भाई दूज का त्यौहार? रोचक है कथा

bhai dooj katha

Bhai Dooj 2023 – भाई दूज का त्यौहार रक्षांबधन की तरह ही पवित्र भाई और बहन के प्रेम और श्रद्धा का प्रतीक है। दीपावली बाद कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष द्वितीया तिथि को भाई दूज मनाया जाता है। इस वर्ष भाई दूज 2023 का दिन 15 नवंबर को हैं।

इस दिन सभी बहनें अपने भाइयों की लंबी उम्र की कामना करते हुए उपवास (व्रत) करती है। रक्षाबंधन की तरह ही बहनें भाई को टीका लगाकर कलाई में मौली बांधती है। और भाई को मिठाई खिलाकर नारियल देती है। टीका (तिलक) लगाने के बाद भाई को भोजन करवाया जाता है लेकिन इसके पीछे की कथा बहुत ही रोचक है।

कहा जाता है कि जो भाई अपनी बहन का आतिथ्य स्वीकार करता है, उसकी सभी इच्छाएं पूर्ण होती है। उसे यमराज का भय नही रहता. धार्मिक मान्यता अनुसार जो भाई बहन के घर भोजन करता है वह आकस्मिक दुर्घटना से बच जाता है। भाई दूज मानने से भाई एन बहन के सुख संपत्ति और ऐश्वर्य में बढ़ोतरी होती है।

रोचक है कथा – Bhai Dooj Katha in Hindi

भाई दूज को लेकर दो कथाएं इतिहास में प्रसिद्ध है जिसमें पहली यमराज और उनकी बहन की है और दूसरी श्री कृष्ण से जुड़ी हुई है।

1) पौराणिक कथा –
अनुसार भगवान सूर्य और उनकी पत्नी संज्ञा के 2 संताने हुई। पुत्र यमराज और और पुत्री यमुना. इन दोनों से आप भली प्रकार परिचित ही है. यमराज दोषियों और पापियों को दंड देते थे और यमुना मन से निर्मल होने से वह गोलोक में रहती थी क्योंकि उनसे लोगों का दुख देखा ना जाता था।

एक समय यमराज को बहन यमुना से भोजन निमित आमंत्रित किया था. उस दिन यमराज ने सारे नरक वासियों को मुक्त कर दिया था तभी से भाई दूज मनाया जाता है।

2) पौराणिक कथा –
अनुसार श्री कृष्ण नरकासुर को हराने के बाद बहन सुभद्रा के घर गए थे तभी से भाई दूज का त्यौहार मनाया जाता है।

शेयर मार्केट से बनेगे करोड़पति बस मत करना ये 10 गलतियों – Stock Market Tips in Hindi Stock Market Tips: शेयर मार्केट से करोड़पति कैसे बनें? Share Market Tips in Hindi Chhath Puja 2023 छठ पूजा की पौराणिक कथा, श्री राम और द्रौपदी ने रखा था व्रत Chhath Puja 2023 : छठ पूजा का शुभ मुहूर्त, 4 दिवसीय छठ पर्व, खरना, डूबते सूर्य को अर्घ्‍य, उगते सूर्य को अर्घ्‍य, छठ पूजा का महत्व ट्रेन हादसा: न्यू दिल्ली दरभंगा में लगी आग, धुआं धुआं हुई बोगियां